Download

College
Info

Admission
Enquiry

Play
Store

स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

Posted By - Media Admin On - Thu 28,Nov 2019

स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

यूनिर्फाम सिविल कोड़ इन इन्डिया -पोजिशन इन करेन्ट डिकेड
विषय पर संगम विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के द्वारा
दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन


संगम विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के द्वारा संविधान दिवस के अवसर पर सामान नागरिक संहिता वर्तमान परिप्रेक्ष्य में स्थिति विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया. संगोष्ठी का उद्घाटन  विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. के.पी. यादव, रजिस्ट्रार औ.पी. गुप्ता, डिप्टी रजिस्ट्रार ऋषि भटनागर तथा स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के डीन  प्रो. एम. एल. पितलिया एवं संगोष्ठी के संयोजक डॉ. विनोद कुमार सरोज ने द्वीप प्रज्वलित  करके किया।  प्रथम सत्र को सम्बोधित करते हुए प्रो. के. पी. यादव ने संविधान के बारे जानकारी प्रदान करते हुए सामान नागरिक संहिता की आवश्कता पर जोर दिया ।  इस सन्दर्भ में  प्रो. एम. एल. पितलिया ने सामान नागरिक संहिता की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।  सत्र का संचालन वर्तिका मिश्रा ने किया।  प्रथम दिन के मुख्य अतिथि अतिरिक्त जिला न्यायाधीश राजीव चैधरी, राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय के प्रो. एस. कंदास्वामी, रुहेलखंड यूनिवर्सिटी बरैली के डॉ. अशोक कुमार  एवं दिल्ली विश्वविद्यालय के डॉ. उपेंद्र नाथ ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये । दूसरे दिन के सत्र को सम्बोधित करते हुए औद्योगिक एवं श्रम न्यायाधीश अजीत कुमार हींगर तथा अन्य विश्वविद्यालय एवं स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज के छात्र एवं छात्राओं ने अपने-अपने विचार व्यक्त किय।  इस अवसर पर लीगल स्टडीज के असिस्टेन्ट प्रोफेसरे शंकर बैनर्जी, देबाश्री चक्रबर्ती, जी.एल. पांडेय एवं सोनाक्षी शर्मा आदि उपस्थित थे।  संगोष्ठी का समापन संयोजक डॉ. वी. के. सरोज के धन्यवाद ज्ञापन एवं राष्ट्रीय गान के साथ संपन्न हुआ।